बुधवार, फरवरी 20, 2019

Introduction to Junnardeo ऐतिहासिक महत्व

जुन्नारदेव शहर ग्राम विशाला के निकट है जो कि एक धार्मिक स्थान है जहां हजारों श्रदालु देशभर से माधवमेले के दौरान चैरागढ़ जाने के लिये पहुचते हैं। जुन्नारदेव विशाला मंदिरों के निकट एक पहाड़ी पर कुछ सोते है जो, सालभर बहते हैं। शहर का वास्तविक मूल नाम जामई था, और जुन्नारदेव असल में शहर के निकट ही स्थित एक गांव हैं। हालांकि प्रशासनिक प्रायोजनों के लिये शहर को जुन्नारदेव संबोधित किया जाता हैं। जुन्नारदेव का इतिहास, रेलवे स्टेशनों और ओवरब्रिज के शहर के निकट ही निर्माण के साथ 1936 में शुरू होता हैं। रेल्वे स्टेशन का नाम जुन्नारदेव था तथा शहर का विकास जामई के नाम से हुआ और बाद में प्रशासनिक ढांचे को जुनारदेव नाम के अंतर्गत बनाया गया। इसके अलावा 1920 के दशक के मध्य ब्रिटिश शावालिस लिमिटेड ने शहर में भूमिगत कोयले की खदानें चालू कर दी थीं (कुछ खुली खदानें भी शहर के निकट थीं जो 19वीं सदी के मध्य में चालू करी गई थी।)

Location and Climate of Junnardeo भौगोलिक स्थिति एवं जलवायु

+27
+29°
+21°
Chhindwara
Monday, 02
शहर के निकट की कुछ पहाड़ी और वादियां है जो सतपुड़ा पर्वतमाला के घने जंगलों की हैं। शहर के नजदीक ही कुछ छोटी नदिया हैं। दक्षिण में सक्कर नदी, उत्तर में पेंच तथा पश्चिम में कान्हन, शहर की प्रमुख नदियां हैं। जुन्नारदेव के जंगल क्षेत्रों में सागौन, खैर साल, बीजा, घौरा, तेन्दू, तिन्सा, अमरूद सीरिस, भीलमा पालमा, पलाश और बबूल वे वृक्ष हैं जो बहुतायत में पाये जाते हैं। इस क्षेत्र में ब्लैक काॅटन और डोमेट किस्म की मिट्टी पाई जाती है जो खेती के लिये अनुकूल हैं। पहाड़ों के अलावा इस क्षेत्र में खुले मैदान भी पाये जाते है जहां छोटे टीले फैले हुयें है जो शहर के उत्तरी भाग का हिस्सा हैं। पेंच नदी सतपुड़ा पर्वतमाला की मुत्तोर पहाडि़यों से शुरू होती है जो शहर से करीब 14 कि.मी. दूर है और वह पूरब की तरफ बहती हैं। शहर से इस नदी की सबसे कम दूरी करीब 8 कि.मी. है जहां पानी के भंडारण के लिये चेक डेम बनाये गये हैं।

घने वनों की उपस्थिति और शहर की स्थिति की वजह से क्षेत्र में प्रचुर वर्षा होती हैं। शहर तीन मौसमों का अनुभव करता हैं, गर्मी, सर्दी व बारिश /सर्दिया अक्टूबर/नवम्बर से फरवरी/मार्च तक रहतीं हैं। इसके समय के बाद तापमान काफी बढ़ जाता हैं। हालांकि जंगलों और सतपुड़ा पर्वतमाला की वजह से बढ़ते तापमान का शहर की जलवायु पर खास असर नहीं पड़ता हैं। जून के दूसरे सप्ताह से मानसून का आरंभ हो जाता हैं। जुलाई माह में शहर में सबसे ज्यादा वर्षा का अनुभव करता हैं। सन् 2007 में जुन्नारदेव में औसत वर्षा करीब 1041.2 मिमी. थी तथा पिछले 10 वर्षों में शहर की वर्षा 1,181.8 मि.मी पर दर्ज की गई थी (वर्ष 1998 से 2007 तक) जुन्नार देव में साल भर हल्की से मध्यम बयार चलती है, खासतौर से सुबह के वक्त जबकि दोपहर के वक्त हवा थोड़ी तेज होती हैं।

Connectivity to Junnardeo सम्पर्क

सड़क - जुन्नारदेव देश के अन्य हिस्सों से सड़क व रेल मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा है। जुन्नारदेव, छिन्दवाड़ा से 48 कि.मी. की दूरी पर है। हालांकि कोई भी राष्ट्रीय राजमार्ग शहर से नहीं गुजरता है लेकिन ये राजकीय राजमार्गों के जाल से भोपाल (236 कि.मी) नागपुर (180 कि.मी.) तथा जबलपुर (167 कि.मी.) से जुड़ा हुआ हैं।

रेल्वे - जुन्नारदेव, भोपाल व जबलपुर से बड़ी लाईन से तथा नागपुर से छोटी लाईन (छिन्दवाड़ा स्टे’ान) से जुड़ा हुआ हैं। इस जगह की महत्ता मध्य रेल के प्रमुख रेलमार्ग पर स्थित होने से और भी बढ़ी हुई हैं। सबसे नजदीकी हवाई अड्डा नागपुर है जो बस व टैक्सी की निरंतर सेवाओं से जुड़ा हुआ हैं। जुन्नारदेव से प’िचम कि ओर आम्ला, पूरब कि ओर पिपरिया, और दक्ष्णि कि ओर सावनेर हैे। यहाँ से निम्न टेªने रोजाना मिलती हैं ः

► पेंचवली पैसेन्जर - छिन्दवाड़ा से इन्दौर (वाया भोपाल, यह बड़ी लाईन की गाड़ी है तथा इसमंे कुछ बोगी दिल्ली के लिये भी लगती हैं।)

► आमला पैसेन्जर - छिन्दवाउ़ा से आमला

► नैनपुर पैसेन्जर - छिन्दवाड़ा से नैनपुर

हवाई संपर्क - जुन्नारदेव में कोई हवाई अड्डा नहीं है। हालाकिं नागपुर (180 कि.मी.) सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है जो आगे अन्य हवाई अड्डों से जुड़ा है। जुन्नारदेव भोपाल (236 कि.मी.) तथा रायपुर (300 कि.मी.) से भी पहुँचा जा सकता है जो हवाई मार्गांे से जुड़े हैं।
खोजें | हमसे संपर्क करें | उपयोग की शर्त | प्रत्याख्यान | कॉपीराइट वक्तव्य | गोपनीयता नीति | सहबद्ध नीति | अभिगम्यता वक्तव्य | © 2018 नगर पालिका परिषद् जुनारदेव
अभिकल्पित एवं कार्यान्वित द्वारा नगरीय विकास एवं आवास विभाग, मध्यप्रदेश एवं सिटी मैनेजर्स एसोसिएशन मध्यप्रदेश